मुझे उसके आँचल का आशियाना न मिला, उसक

मुझे उसके आँचल का आशियाना न मिला,

उसकी ज़ुल्फ़ों की छाँव का ठिकाना न मिला,

कह दिया उसने मुझको ही बेवफा...

मुझे छोड़ने के लिए कोई बहाना न मिला।

अब भी तड़प रहा है तू उसकी याद में, उस

अब भी तड़प रहा है तू उसकी याद में,

उस बेवफा ने तेरे बाद कितने भुला दिए।

ये नजर चुराने की आदत आज भी नही बदली उ

ये नजर चुराने की आदत

आज भी नही बदली उनकी,

कभी मेरे लिए जमाने से और

अब जमाने के लिए हमसे।

ऐ बेवफा तेरी बेवफ़ाई में दिल बेकरार ना क

ऐ बेवफा तेरी बेवफ़ाई में दिल बेकरार ना करूँ,

अगर तू कह दे तो तेरा इंतेज़ार ही ना करूँ,

तू बेवफा है तो कुछ इस कदर बेवफ़ाई कर,

कि तेरे बाद मैं किसी से प्यार ही ना करूँ।

कतरा कतरा आग बन के जला रही है यादे तेर

कतरा कतरा आग बन के

जला रही है यादे तेरी•••

बरस के इश्क तू भी

दिल की लगी बुझा•••

क्यों नाम दूँ उसे बेवफ़ा का , वो तो व

क्यों नाम दूँ उसे बेवफ़ा का ,

वो तो वक़्त था ,

जिसे मेरी हँसी

देखी नही गयी !!