ज़ूलफ़े तेरी बिखरी बिखरी और आँचल भी सर स

ज़ूलफ़े तेरी बिखरी बिखरी और आँचल भी सर से सरका

देख के तेरा यौवन गोरी तब दिल मेरा भी बहका

उसके लहज़े के बदलने की कहानी को समझ कर

उसके लहज़े के बदलने की कहानी को समझ कर

अब भी अये दिल उसे चाहो तो तुम्हारी मर्ज़ी

रात फिर आएगी फिर ज़हेंन के दरवाज़े पर

रात फिर आएगी फिर ज़हेंन के दरवाज़े पर

कोई मेंहदी में रंगे हाथ से दस्तक देगा

जिस्म से होने वाली मोहब्बत का इज़हार आसान

जिस्म से होने वाली मोहब्बत का इज़हार आसान होता है

रूह से हुई मोहब्बत समझने में ज़िन्दगी गुजर जाती है

उदासी ......... कुछ तो बोलो न ....

उदासी .........

कुछ तो बोलो न ....

भला क्यों आज तुम ....

दिल में....

ना दश्तक...

बिना आहट...

काशक बन कर समायी हो.....??

तुमको देखूं तो मुझे प्यार बहोत आता है

तुमको देखूं तो मुझे प्यार बहोत आता है

ज़िंदगी इतनी हसीन पहले तो नही लगती थी