♥हर घड़ी सोचते हे भलाई तेरी सुन नही सकते

♥हर घड़ी सोचते हे भलाई तेरी सुन नही सकते बुराई तेरी हस्ते हस्ते रो पड़ती है आँखें मेरी इस तरह से सहते हे जुदाई तेरी

आप को पाकर अब खोना नहीं चाहते इतना खु

आप को पाकर अब खोना नहीं चाहते इतना खुश होकर अब रोना नहीं चाहते ये आलम है हमारा आप की जुदाई में आँखों में है नींद पर सोना नहीं चाहते

कोई वादा नहीं फिर भी तेरा इंतजार है

.कोई वादा नहीं फिर भी तेरा इंतजार है जुदाई के बाद भी हमें तुझसे प्यार है तेरे चेहरे की उदासी कर रही है बयान दास्ताँ की मुझसे मिलने के लिए तू भी बेक़रार है

उतर के देख मेरी चाहत की गहराई में ! सोचन

उतर के देख मेरी चाहत की गहराई में ! सोचना मेरे बारे में रात की तन्हाई में ! अगर हो जाए मेरी चाहत का एहसास तुम्हे ! तो मिलेगा मेरा अक्स तुम्हे अपनी ही परछाई में

कोई कहता है प्यार नशा बन जाता है; कोई कह

कोई कहता है प्यार नशा बन जाता है; कोई कहता है प्यार सज़ा बन जाता है; पर प्यार करो अगर सच्चे दिल से; तो प्यार जीने की वजह बन जाता है।

कोई तो दिल का भी सहारा होता है; ज़रूरी नह

कोई तो दिल का भी सहारा होता है; ज़रूरी नहीं ज़िन्दगी अपने लिए ही प्यारी हो; ज़िन्दगी में कोई तो ज़िन्दगी से भी प्यारा होता है