दिन भर की थकान अब मिटा लीजिए, हो चुकी

दिन भर की थकान अब मिटा लीजिए,

हो चुकी रात रोशनी बुझा लीजिए,

एक खूबसूरत ख्वाब राह देख रहा है,

बस पलकों का परदा गिरा लीजिए!!

ऐसा लगता है कुछ होने जा रहा है, कोई मी

ऐसा लगता है कुछ होने जा रहा है,

कोई मीठे सपनो मे खोने जा रहा है,

धीमी कर दे अपनी रोशनी ऐ चाँद,

मेरा कोई अपना सोने जा रहा हैं!

हो चुकी रात अब सो भी जाइए जो हैं दिल

हो चुकी रात अब सो भी जाइए

जो हैं दिल के करीब उनके ख्यालों में खो जाइए

कर रहा होगा कोई इंतज़ार आपका

ख़्वाबों में ही सही उनसे मिल तो आइये

इस चाँद को कभी यूँ भी देखो कि जाने कब

इस चाँद को कभी यूँ भी देखो

कि जाने कब किसी झरोखे से ये

इक ग़ज़ल या किसी खिड़की से

इक तस्वीर बन जाता है

और गुस्ताख़ नज़र उठे तो खता ..

पता नहीं सभी लोग मेरी इतनी रिस्पेक्ट क्य

पता नहीं सभी लोग मेरी इतनी रिस्पेक्ट क्यों करते हैं?

मै जब भी उनको SMS करती हूँ,

वो सर निचे झुका के मेरा मेसेज पढ़ते हैं,

हाँ, बिलकुल तुम्हारी तरह ही…

“उफ़ मेरे क्रेजी फैन”

चलो सो जाओ

Good Night….!!@

अंधेरी सड़क सुनसान कब्रिस्तान, सूनी हवे

अंधेरी सड़क सुनसान कब्रिस्तान,

सूनी हवेली काला आसमान,

बिजली कडकी आया तुफान,

रात हो गयी सो जा शैतान…

गुड नाईट..!!@