उदास ना बैठो फ़िज़ा तंग करेगी गुजरे हुए लम

उदास ना बैठो फ़िज़ा तंग करेगी गुजरे हुए लम्हों की सजा तंग करेगी किसी को ना लाओ दिल के इतना करीब क्यों की उसके जाने के बाद उसकी हर अदा तंग करेगी

हो जुदाई का शबाब कुछ भी मगर हम उसे अपनी

हो जुदाई का शबाब कुछ भी मगर हम उसे अपनी खता कहते है वो तो सांसो में ढली है मेरे जाने क्यों लोग उसे मुझसे जुदा कहते है

कट ही गयी जुदाई भी कब ये हुआ की मर गए ते

कट ही गयी जुदाई भी कब ये हुआ की मर गए तेरे भी दिन गुजर गए मेरे भी दिन गुजर गए

लोग लेते है यूँ ही शम्मा और परवाने का ना

लोग लेते है यूँ ही शम्मा और परवाने का नाम कुछ नहीं है इस जहाँ में ग़ुम के अफ़साने का नाम

अब कौन से मौसम से कोई आस लगाये बरसात में

अब कौन से मौसम से कोई आस लगाये बरसात में भी याद ना जब उनको हम आये

आज जरुरत है जिसकी वो पास नहीं है अब उनके

आज जरुरत है जिसकी वो पास नहीं है अब उनके दिल में वो एहसास नहीं है तड़पते है दो पल बात करने को शायद अब वक़्त हमारे लिए उनके पास नहीं है