सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो, नजर वही

सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,

नजर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,

हजारों फूल देखे हैं इस गुलशन में मगर,

खुशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो..

मुहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं! प्यार स

मुहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं!

प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं!

मुद्दतें बीत जाती हैं किसी के इंतज़ार में!

ये सिर्फ पल-दो-पल का काम नहीं!

जब ख़याल आया तो खयाल भी उनका आया जब आँख

जब ख़याल आया तो खयाल भी उनका आया

जब आँखे बंद की ख्वाब भी उनका आया ,

सोचा याद कर लू किसी और को

मगर होठ खुले तो नाम भी उनका आया.

अपने होंठों पर सजाना चाहती हूँ आ तुझे

अपने होंठों पर सजाना चाहती हूँ

आ तुझे मैं गुनगुनाना चाहती हूँ



कोई आँसू तेरे बाजूओं पर गिराकर

बूँद को मोती बनाना चाहती हूँ



थक गयी मैं करते-करते याद तुझको

अब तुझे मैं याद आना चाहती हूँ



आख़री हिचकी तेरे ज़ानों पे आये

मौत भी मैं शायराना चाहती हूँ

तुम साथ हो तो दुनियां अपनी सी लगती है !

तुम साथ हो तो दुनियां अपनी सी लगती है !



वरना सीने मे सांसे भी पराई सी लगती है !!

नजर" से दुर रहकर भी किसी की "सोच" मे रहन

नजर" से दुर रहकर भी किसी की "सोच" मे रहना..♥

किसी के "पास" रहने का तरीका होतो ऐसा हो.