हो जुदाई का सबब कुछ भी मगर,

हम उसे अपनी खता कहते हैं,

वो तो साँसों में बसी है मेरे,

जाने क्यों लोग मुझसे जुदा कहते हैं
सर्द रातों को सताती है जुदाई तेरी आग बुझती नहीं सीने में लगायी तेरी तुम जो कहते थे बिछड़ कर मैं सुकून पा लूंगा फिर क्यों रोती है मेरे दर पर तन्हाई तेरी ..open
लम्हा लम्हा ये वक़्त गुजर जायेगा जाने कब तू मुझसे बिछड़ जायेगा जी लेने दो मुझे इस एक पल में जिंदगी एक तुझसे बिछड़ कर ये दिल मर जायेगा ..open
मजबूरी में जब कोई किसी से जुदा होता है, ये तो ज़रूरी नहीं कि वो बेवफ़ा होता है, देकर वो आपकी आँखों में जुदाई के आँसू, तन्हाई में वो आपसे भी ज्यादा रोता है। ..open

इतना बेताब न हो मुझसे बिछड़ने के लिए, तुझे आँखों से नहीं मेरे दिल से जुदा होना है। ..open
यह हम ही जानते हैं जुदाई के मोड़ पर, इस दिल का जो भी हाल तुझे देख कर हुआ। ..open
पाया तुमको तो हम को लगा तुमको खो दिया हम दिल पे रोये और ये दिल हम पे रो दिया क्यों इसके फासले हमें मंजूर हो गए कितने हुए करीब की हम दूर हो गए ..open

तुझे चाहा तो बहुत इजहार न कर सके, कट गई उम्र किसी से प्यार न कर सके, तूने माँगा भी तो अपनी जुदाई माँगी, और हम थे कि तुझे इंकार न कर सके। ..open
हमने माँगा था साथ उनका वो जुदाई का गम दे गए हम उनकी यादो के सहारे ही जी लेते पर वो भूल जाने की कसम दे गए ..open
याद में तेरी आँहें भरता है कोई, हर सांस के साथ तुझे याद करता है कोई, मौत तो सचाई है आनी ही है, लेकिन तेरी जुदाई में हर रोज़ मरता है कोई। ..open

जब तक मिले न थे जुदाई का था मलाल, अब ये मलाल है कि तमन्ना निकल गई। ..open
दिल से हमें पुकारा ना करो, यूँ आँखों से इशारा ना करो, तुमसे दूर हैं मजबूरी है हमारी, तन्हाई में हमें यूँ तड़पाया ना करो। ..open
आओ किसी शब मुझे टूट के बिखरता देखो, मेरी रगों में ज़हर जुदाई का उतरता देखो, किस किस अदा से तुझे माँगा है खुदा से, आओ कभी मुझे सजदों में सिसकता देखो। ..open

बेवफा वक़्त था..? तुम थे..? या मुकद्दर था मेरा..? बात इतनी ही है कि अंजाम जुदाई निकला । ..open
किसी से जुदा होना इतना आसान होता तो, रूह को जिस्म से लेने फ़रिश्ते नहीं आते। ..open
रब किसी को किसी पर फ़िदा न करे, करे तो क़यामत तक जुदा न करे, ये माना की कोई मरता नहीं जुदाई में, लेकिन जी भी तो नहीं पाता तन्हाई में। ..open

सोच नहीं सकते एक पल भी दूर रहना तुमसे अगर तू भूल जाये तो टूट कर बिखर जाऊँ मैं कभी जन्नत भी मिले मुझे तेरे प्यार के बदले मोहब्बत की कसम वहां भी मुकर जाऊँ मैं ..open
प्यार करते है तुमसे कितना कभी दिखा ना सके तुम क्या हो हमारे लिए ये कभी बता ना सके क्या हुआ जो आज तुम साथ नहीं हो फिर भी तुम्हारी किसी भी याद को भुला ना सके ..open
हर एक बात पर वक़्त का तकाजा हुआ, हर एक याद पर दिल का दर्द ताजा हुआ, सुना करते थे ग़ज़लों में जुदाई की बातें, खुद पे बीती तो हकीकत का अंदाजा हुआ। ..open

हमें ये मोहब्बत किस मोड़ पे ले आई, दिल में दर्द है और ज़माने में रुसवाई, कटता है हर एक पल सौ बरस के बराबर, अब मार ही डालेगी मुझे तेरी जुदाई। ..open
हो जुदाई का सबब कुछ भी मगर, हम उसे अपनी खता कहते हैं, वो तो साँसों में बसी है मेरे, जाने क्यों लोग मुझसे जुदा कहते हैं ..open

Did you find this page helpful? X