जब भी मुझे एहसास हुआ कि मैं तेरे लिए ख़ास हूँ, तेरी बेरुखी ने बता दिया कि मैं झूठी आस में हूँ 😟😟
इतना तो मैं समझ गयी थी उसको, वो जा रहा था और मैं हैरान भी ना थी 😟💔😟💔 ..open
किसी ने पूछा इतना अच्छा कैसे लिख लेते हो , मैंने कहा दिल तोड़ना पड़ता है , लफ़्ज़ों को जोड़ने से पहले 💔💔 ..open
मोहब्बत एक ऐसी गणित है जिसमें अगर दो में से एक भी गया तो बाकी कुछ नहीं बचता 💔😢 ..open

जान तो उस वक़्त निकलती है जब अपना प्यार किसी और का जिक्र अपनी बातों में करता रहे 💔 ..open
तुमको मेरे जैसे बहुत मिलेंगे, पर याद रखना उन सब में मैं कभी नहीं मिलूँगा 💔💔 ..open
माना कि बहुत महँगा है ख्वाब तुम्हारा, पर कीमत हमारे प्यार की कुछ कम तो नहीं ..open

जब भी मुझे एहसास हुआ कि मैं तेरे लिए ख़ास हूँ, तेरी बेरुखी ने बता दिया कि मैं झूठी आस में हूँ 😟😟 ..open
तेरे हर दर्द से वाकिफ था मैं, फिर क्यों तुझे मेरे दर्द का एहसास नहीं हुआ 😟😟 ..open
मुझे नहीं चाहिए अपनी वफाओं का सिला, बस दर्द देते जाओ, मोहब्बत बढ़ती जाएगी ..open

सब कुछ ख़त्म कर दिया मैंने तेरे प्यार में, बस ये आँसू ही है जो खत्म होने का नाम ही नहीं लेते 😢😢 ..open
तेरे सिवा मुझे सिर्फ नींद से ही प्यार था.. कमबख्त वो भी बेवफा हो गई तेरे साथ 😢 💔 ..open
जब भी मुझे एहसास हुआ कि मैं तेरे लिए ख़ास हूँ, तेरी बेरुखी ने बता दिया कि मैं झूठी आस में हूँ 😟😟 ..open

एक कोशिश भी नहीं की उसने मुझे रोकने की , शायद उसे मेरे चले जाने का ही इंतज़ार था 😟💔😢 ..open

Did you find this page helpful? X